Tuesday, September 17, 2019
पंजाब विभाजन : जब पंजाबी औरतों के शरीर का हो रहा था शिकार

पंजाब विभाजन : जब पंजाबी औरतों के शरीर का हो रहा था शिकार

भारत के बंटवारे के दौरान भी महिलाओं को निशाना बनाया गया| औरतों पर ऐसी हैवानियत की शुरुआत मार्च 1947 के रावलपिंडी के दंगों से शुरू हो गई थी|
चंद्राणी मुर्मू : बेरोज़गारी से कम उम्र की सांसद बनने का सफर

चंद्राणी मुर्मू : बेरोज़गारी से कम उम्र की सांसद बनने का सफर

चंद्राणी मुर्मू केवल 25 साल की है औऱ वह बीजू जनता दल (बीजेडी) के टिकट पर क्योंझर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ी है औऱ सदन पहुंची हैं।
इलेक्शननामा: भारत में चुनाव का इतिहास

इलेक्शननामा: भारत में चुनाव का इतिहास

इलेक्शननामा के पीछे मक़सद ये था कि चुनाव में कौन जीत या हार रहा है से हटकर इस पर चर्चा हो कि इस चुनाव में कौन से मुद्दे हैं, ये चुनाव इतना अहम क्यों है, भारत में लोकसभा चुनाव का इतिहास क्या रहा है और नार्थ ईस्ट के राज्यों में चुनाव के दौरान क्या कुछ हो रहा है.
लोकसभा चुनाव

इस लोकसभा चुनाव से क्यों गायब थे महिलाओं से जुड़े मुद्दे

चुनाव में अक्सर यह देखने को मिलता है कि महिलाओं से संबंधित मुद्दों को प्राथमिकता दी जाती है। लेकिन इस बार चुनाव के प्रचार प्रसार में देश की आधी आबादी यानी कि महिलाओं के मुद्दे नदारद की दिखाई पड़े ।
अब महिलाओं को राजनीति करना पड़ेगा

अब महिलाओं को राजनीति करना पड़ेगा

राष्ट्र में सही मायने में लैंगिक-समानता के लिए, महिलाओं को अपने राजनीतिक अधिकारों के बारे में जागरूक होना पड़ेगा और चुनावी राजनीति में भाग लेना पड़ेगा |
सत्ता में भारतीय महिलाएं और उनका सामर्थ्य, सीमाएँ व संभावनाएँ

सत्ता में भारतीय महिलाएं और उनका सामर्थ्य, सीमाएँ व संभावनाएँ

राजनीति एक सार्वजनिक क्षेत्र है| पर परम्परागत रूप से भारतीय महिलाओं को सार्वजनिक क्षेत्र में आने की मनाही रही है।
बेघर लोग

चुनावी मौसम में उनलोगों की बात जो इसबार मतदान नहीं कर पायेंगें

बेघर और वंचित तबकों मतदान के अधिकार से दूर होना न केवल शासन की बल्कि हमारे समाज, देश और विचारधारा की विफलता को दिखाता है|
देश की पहली ‘राष्ट्रीय महिला पार्टी’: अब 2019 के लोकसभा चुनाव में महिलाओं की होगी सक्रिय भागीदारी

देश की पहली ‘राष्ट्रीय महिला पार्टी’: अब 2019 के लोकसभा चुनाव में महिलाओं की...

साल 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए भारत की पहली सर्व-महिला राजनीतिक पार्टी ‘राष्ट्रीय महिला पार्टी’ को मुम्बई में लांच किया गया|
इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

संविधान सभा में हम उन प्रमुख पंद्रह महिला सदस्यों का योगदान आसानी से भुला चुके है या यों कहें कि हमने कभी इसे याद करने या तलाशने की जहमत नहीं की| तो आइये जानते है उन पन्द्रह भारतीय महिलाओं के बारे में जिन्होंने संविधान निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दिया है|  
भारतीय राजनीति में कब बढ़ेगी महिलाओं की भागीदारी?

भारतीय राजनीति में कब बढ़ेगी महिलाओं की भागीदारी?

विश्व आर्थिक मंच की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय संसद में महिलाओं की भागीदारी अपने पड़ोसी देशों से भी कम है।