Intersectional Feminism—Desi Style!
Home Authors Posts by Muheem

Muheem

4 POSTS 0 COMMENTS
Muheem is determined to make a change in society. It stands for Multidimensional Upliftment, Humanistic Evaluation and Empowerment of Marginalized.

ट्रेंडिंग

कोरोना काल में महिलाओं की पहुंच से दूर हुए पीरियड्स प्रॉडक्ट्स

कोरोना काल में महिलाओं की पहुंच से दूर हुए पीरियड्स प्रॉडक्ट्स

डॉक्टरों की माने तो लंबे समय तक घरों में बंद रहने की वजह से नींद, खान-पान, शारीरिक गतिविधियां जैसी प्रक्रियाएं प्रभावित हुई। घर से बाहर न निकल पाने की वजह से तनाव की समस्या होने लगी। ऐसे में दुनियाभर में महिलाओं में एक नई समस्या देखी गई और वह रही अनियमित पीरियड्स, अधिक र्दनाक पीरियड्स और मेंस्ट्रूयल क्रैम्प्स।
इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

2
संविधान सभा में हम उन प्रमुख पंद्रह महिला सदस्यों का योगदान आसानी से भुला चुके है या यों कहें कि हमने कभी इसे याद करने या तलाशने की जहमत नहीं की| तो आइये जानते है उन पन्द्रह भारतीय महिलाओं के बारे में जिन्होंने संविधान निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दिया है|  
लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

6
गाँव हो या शहर व्यवहार से लेकर काम तक लैंगिक समानता हमारे समाज में मौजूद है, जो हमारे देश के लिए एजेंडा 2030 को पूरा करने में बड़ी चुनौती है|

आपके पसंदीदा लेख

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

मासिकधर्म और सैनिटरी पैड पर हमारे घरों में चर्चा करने की बेहद ज़रूरत है और जिसकी शुरुआत हम महिलाओं को ही करनी होगी।
लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

6
गाँव हो या शहर व्यवहार से लेकर काम तक लैंगिक समानता हमारे समाज में मौजूद है, जो हमारे देश के लिए एजेंडा 2030 को पूरा करने में बड़ी चुनौती है|
उफ्फ! क्या है ये नारीवादी सिद्धांत? आओ जाने!

उफ्फ! क्या है ये ‘नारीवादी सिद्धांत?’ आओ जाने!

2
नारीवाद के बारे में सभी ने सुना होगा। मगर यह है क्या? इसके दर्शन और सिद्धांत के बारे में ज्यादातर लोगों को नहीं मालूम। इसे पूरी तरह जाने और समझे बिना नारीवाद पर कोई भी बहस या विमर्श बेमानी है। नव उदारवाद के बाद भारतीय समाज में महिलाओं के प्रति आए बदलाव के बाद इन सिद्धांतों को जानना अब और भी जरूरी हो गया है।

फॉलो करे

6,724FansLike
1,399FollowersFollow
1,224FollowersFollow