हिंदी में होगी अब जेंडर और नारीवाद की बात फेमिनिज़म इन इंडिया के साथ
Home Tags महिला यौनिकता

Tag: महिला यौनिकता

ट्रेंडिंग

पितृसत्ता क्या है? – आइये जाने  

पितृसत्ता क्या है? – आइये जाने  

पितृसत्ता एक ऐसी व्यवस्था के रूप में परिभाषित किया जाता है जिसमें पुरुषों का महिलाओं पर वर्चस्व रहता है और वे उनका शोषण और उत्पीड़न करते हैं|
ख़ास बातः यंग क्लाईमेंट चेंज लीडर हिना सैफ़ी से

ख़ास बातः यंग क्लाईमेंट चेंज लीडर हिना सैफ़ी से

पश्चिमी उत्तर प्रदेश मेरठ के गांव सिसौला बुजुर्ग की रहने वाली हिना सैफी एक युवा पर्यावरण संरक्षण कार्यकर्ता हैं। वह संयुक्त राष्ट्र की ओर से घोषित भारत के 17 यंग क्लाईमेंट चेंज लीडर में से एक हैं। यूएन के इस अभियान से जुड़ने से पहले से हिना अपने गांव में बच्चों की शिक्षा और पर्यावरण के लिए काम कर रही हैं।
award-winning-author-nilotpal-mrinal-raped-upsc-aspirant-hindi

नीलोत्पल मृणाल मामले में सर्वाइवर की ट्रोलिंग और साहित्य जगत में सन्नाटा क्यों?| नारीवादी...

0
नीलोत्पल मृणाल के मामले में सर्वाइवर महिला को ट्रोल करने वालों की संख्या बढ़ती दिखाई पड़ रही है, लेकिन साहित्य जगत में पूरी तरह सन्नाटा छाया हुआ है। क्या ये नीलोत्पल को मौन समर्थन है ?

आपके पसंदीदा लेख

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

3
मासिकधर्म और सैनिटरी पैड पर हमारे घरों में चर्चा करने की बेहद ज़रूरत है और जिसकी शुरुआत हम महिलाओं को ही करनी होगी।
लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

6
गाँव हो या शहर व्यवहार से लेकर काम तक लैंगिक समानता हमारे समाज में मौजूद है, जो हमारे देश के लिए एजेंडा 2030 को पूरा करने में बड़ी चुनौती है|
उफ्फ! क्या है ये नारीवादी सिद्धांत? आओ जाने!

उफ्फ! क्या है ये ‘नारीवादी सिद्धांत?’ आओ जाने!

2
नारीवाद के बारे में सभी ने सुना होगा। मगर यह है क्या? इसके दर्शन और सिद्धांत के बारे में ज्यादातर लोगों को नहीं मालूम। इसे पूरी तरह जाने और समझे बिना नारीवाद पर कोई भी बहस या विमर्श बेमानी है। नव उदारवाद के बाद भारतीय समाज में महिलाओं के प्रति आए बदलाव के बाद इन सिद्धांतों को जानना अब और भी जरूरी हो गया है।

फॉलो करे

7,127FansLike
2,948FollowersFollow
2,956FollowersFollow
1,040SubscribersSubscribe
Skip to content