हिंदी में होगी अब जेंडर और नारीवाद की बात फेमिनिज़म इन इंडिया के साथ

इंटरसेक्शनल

खेलों में ट्रांस समुदाय के साथ दोहरा व्यवहार और इतिहास सेक्स वेरिफिकेशन टेस्ट का

ट्रांस समुदाय के लोगों के साथ अपनी लैंगिक पहचान के कारण हर क्षेत्र में भेदभाव का सामना करना पड़ता है। खेल का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है। यहां तक ​​​​कि आईओसी (अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति) भी उनके प्रति उदासीन है।

स्वास्थ्य

महिलाओं की एकल जिम्मेदारी नहीं, सामूहिक योगदान से हो सकता है सही, सुरक्षित और आसान स्तनपान

बच्चे के स्वास्थ्य और जीवन को सुरक्षित रखने के लिए स्तनपान सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। लेकिन विभिन्न संस्थाएं और स्वास्थ्य विशेषज्ञ आज स्तनपान को सिर्फ माँओं की एकल ज़िम्मेदारी नहीं मान रहे। आज इस बात पर ज़ोर दिया जा रहा है कि स्वाभाविक रूप से स्तनपान में परिवार, समुदाय, स्वास्थ्य चिकित्सक, अस्पताल, महिलाओं के काम करने और सार्वजनिक जगह और सरकार के बनाए गए कानून की भी अहम भूमिका है।

मारग्रेट सेंगरः अमेरिका में बर्थ कंट्रोल क्लीनिक खोलने वाली महिला

मारग्रेट सेंगर को यूरोप की यात्रा के दौरान बर्थ कंट्रोल क्लीनिक्स का दौरा करने का मौका मिला। वहीं से उनके दिमाग में ये आइडिया आया कि वे इसकी शुरुआत अपने देश में भी कर सकती है। अमेरिका में महिलाओं के लिए बर्थ कंट्रोल क्लीनिक बेहद ज़रूरी है। 

समाज

संसदीय समिति ने की गोद लेने के कानून से बच्चों के लिए ‘नाजायज़’ शब्द हटाने की सिफारिश

समिति ने सुझाव दिया है कि ‘नाजायज़’ शब्द को हटा देना चाहिए क्योंकि कोई भी बच्चा नाजायज़ नहीं होता है। कानून सभी बच्चों के लिए समान होना चाहिए चाहे वे विवाह के रिश्ते के भीतर हुए हो या बाहर पैदा हुए हों।

संस्कृति

आशा सपेरा: एक उन्मुक्त कालबेलिया नर्तकी 

आशा बताती हैं, “12 महीने में सिर्फ 4 महीने हम डांस प्रोग्राम करते हैं बाकी के 8 महीने हम बेरोज़गार रहते हैं। लेकिन मैंने अपनी माँ से कढ़ाई करना सीख लिया है और अब मैं यह बाकी लड़कियों को भी सिखाती हूं ताकि वे अपने जीवन के हर मुकाम को हासिल कर सकें। लॉकडाउन में मैंने ऑनलाइन क्लास भी शुरू की। आज भारत से ही नहीं बल्कि विदेशों में भी कालबेलिया नृत्य को लोग बहुत पसंद करते हैं और मुझ से ऑनलाइन या ऑफलाइन माध्यम से क्लास लेते हैं।“

भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में केवल 10 प्रतिशत महिलाएं हैं शीर्ष पद परः रिपोर्ट

हिंदी सहित अन्य भारतीय भाषाओं की अधिकांश फिल्मों में महिलाओं की हिस्सेदारी अभी भी बहुत कम है। सभी भारतीय भाषाओं की फिल्मों में पुरुषों का वर्चस्व हैं।

ट्रेंडिंग

सुरैया तैयबजी: राष्ट्रीय ध्वज को डिज़ाइन करने में जिन्होंने निभाई थी अहम भूमिका| #IndianWomenInHistory

सुरैया तैयबजी: राष्ट्रीय ध्वज को डिज़ाइन करने में जिन्होंने निभाई थी अहम भूमिका| #IndianWomenInHistory

0
आज जब छद्म राष्ट्रवादियों द्वारा मुस्लिमों की देशभक्ति पर सवाल उठाया जा रहा हो तो ऐसे में अल्पसंख्यक समुदाय से आनेवाली सुरैया तैयबजी को याद करना और देश के प्रति उनके इस योगदान को लोगों के सामने लाना बेहद जरूरी हो जाता है।
इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

2
संविधान सभा में हम उन प्रमुख पंद्रह महिला सदस्यों का योगदान आसानी से भुला चुके है या यों कहें कि हमने कभी इसे याद करने या तलाशने की जहमत नहीं की| तो आइये जानते है उन पन्द्रह भारतीय महिलाओं के बारे में जिन्होंने संविधान निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दिया है|  
बात ज़ेवियर्स की महिला प्रोफेसर के इस्तीफे, महिलाओं की मोरल पोलिसिंग और निजता के हनन की

बात ज़ेवियर्स की महिला प्रोफेसर के इस्तीफे, महिलाओं की मोरल पोलिसिंग और निजता के...

0
विश्वविद्यालय ने यह निर्णय लिया कि प्रोफेसर की निजी तस्वीरें 'आपत्तिजनक' हैं। इस बुनियाद पर उन्हें इस्तीफा देने के लिए कहा गया। ख़बरों के मुताबिक कथित रूप से 'आपत्तिजनक' बताई गई तस्वीरें उनकी निजी तस्वीरें थी जो स्विमसूट, शॉर्ट्स और जिम के कपड़ों में ली गई थीं। उन्होंने ये तस्वीरें अपने इंस्टाग्राम स्टोरीज़ के रूप में साझा की थीं।

आपके पसंदीदा लेख

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

3
मासिकधर्म और सैनिटरी पैड पर हमारे घरों में चर्चा करने की बेहद ज़रूरत है और जिसकी शुरुआत हम महिलाओं को ही करनी होगी।
लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

6
गाँव हो या शहर व्यवहार से लेकर काम तक लैंगिक समानता हमारे समाज में मौजूद है, जो हमारे देश के लिए एजेंडा 2030 को पूरा करने में बड़ी चुनौती है|
उफ्फ! क्या है ये नारीवादी सिद्धांत? आओ जाने!

उफ्फ! क्या है ये ‘नारीवादी सिद्धांत?’ आओ जाने!

2
नारीवाद के बारे में सभी ने सुना होगा। मगर यह है क्या? इसके दर्शन और सिद्धांत के बारे में ज्यादातर लोगों को नहीं मालूम। इसे पूरी तरह जाने और समझे बिना नारीवाद पर कोई भी बहस या विमर्श बेमानी है। नव उदारवाद के बाद भारतीय समाज में महिलाओं के प्रति आए बदलाव के बाद इन सिद्धांतों को जानना अब और भी जरूरी हो गया है।

फॉलो करे

7,127FansLike
2,948FollowersFollow
3,040FollowersFollow
1,160SubscribersSubscribe
Video thumbnail
कैसे बॉडी इमेज और कंसेंट को समझने के लिए ज़रूरी है CSE?
07:00
Video thumbnail
क्यों ज़रूरी है कॉम्प्रहेंसिव सेक्सुअलिटी एजुकेशन ? | Why we need Comprehensive Sexuality Education?
06:46
Video thumbnail
क्यों लीडिंग पोजिशन में रहने वाली औरतों को बॉसी बुलाया जाता है? | फेमिनिज़म इन इंडिया
04:41
Video thumbnail
सर्वाइकल कैंसर से बचा सकती है आपको HPV वैक्सीन | फेमिनिज़म इन इंडिया
06:30
Video thumbnail
जानें, क्या है भारत में अबॉर्शन से जुड़ा कानून? | All you need to know about Abortion Law in India
07:53
Video thumbnail
बॉलीवुड में औरतों को त्याग की मूरत क्यों दिखाया जाता है? | फेमिनिज़म इन इंडिया
05:06
Video thumbnail
औरतों की थाली को पितृसत्ता कैसे कंट्रोल करती है! | How patriarchy controls women eating habits!
06:18
Video thumbnail
क्यों औरतों का शराब पीना आख़िर बुरा माना जाता है? | फेमिनिज़म इन इंडिया
04:01
Video thumbnail
यूटीआई और इससे जुड़े मिथ्य | What is UTI | UTI Myths & Facts
06:03
Video thumbnail
हिंदू धर्म और जाति व्यवस्था पर डॉ. आंबेडकर के विचार | Dr. Ambedkar on Caste & Religion in Hindi
05:23
Video thumbnail
क्यों समाज को दिक्कत है, उन औरतों से जो अपने आपको खुलकर एक्सप्रेस करती हैं? | फेमिनिज़म इन इंडिया
04:09
Video thumbnail
मेन्स्ट्रूअल कप और उससे जुड़े मिथ्य | Menstrual Cup Myths & Fact
07:22
Video thumbnail
आखिर समाज को लिव-इन रिलेशनशिप्स से दिक्कत क्यों है?| Why Can't Unmarried Couples Live Together?
04:50
Video thumbnail
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस क्यों मनाया जाता है? | Why do we celebrate International Women's Day?
04:41
Video thumbnail
महाश्वेता देवी : लोगों के संघर्ष को शब्दों में पिरोनेवाली लेखिका | फेमिनिज़म इन इंडिया
03:55
Video thumbnail
इंटिमेट हाइजीन और इससे जुड़े मिथ्य | How to clean your vagina? | Vaginal wash myths vs facts
05:43
Video thumbnail
क्यों हमें खुद की मर्ज़ी का पार्टनर चुनने से रोका जाता हैं? | Why we can't choose our own partners?
04:07
Video thumbnail
महिलाओं के शरीर से बाल हटाने का इतिहास | What is the history of hair removal for women?
03:46
Video thumbnail
फिल्मों में हमेशा हीरो, हीरोइन से उम्र में बड़ा क्यों होता है? | What's with the age gap in movies?
03:04
Video thumbnail
क्या है प्री मेन्स्ट्रूअल सिंड्रोम और उससे जुड़े मिथ्य | What is PMS and myths
06:59
Video thumbnail
रानी गाइदिनल्यू :नगालैंड की स्वतंत्रता सेनानी | Rani Gaidinliu: The Naga freedom fighter
03:45
Video thumbnail
चिपको आंदोलन : पेड़ों को बचाने का ऐतिहासिक और नायाब संघर्ष | Chipko Movement in Hindi
03:28
Video thumbnail
मनुस्मृति दहन दिवस 25th December | Manusmriti Dahan Divas in Hindi | Feminism in India Hindi
05:50
Video thumbnail
बेग़म अख़्तर: भारत की ‘मल्लिका-ए-गज़ल’ | Begum Akhtar : Malika -E- Ghazal | Feminism in India Hindi
05:26
Video thumbnail
घरेलू हिंसा हमारे समाज के लिए 'नॉर्मल' क्यों है? | Why do society has Normalized Domestic Violence?
07:08
Video thumbnail
क्यों औऱतों के लिए मां बनना इतना जरूरी बना दिया गया है? | Why is motherhood important?
04:14
Video thumbnail
क्या होता है वजाइनल यीस्ट इंफेक्शन? | फेमिनिज़म इन इंडिया
02:48
Video thumbnail
सितारा देवी : भारत की कथक क्वीन | Sitara Devi: Kathak Queen of India
04:07
Video thumbnail
दहेज उत्पीड़न के ख़िलाफ़ हुए आंदोलन | The Anti-dowry Movement in Hindi | Feminism in India Hindi
04:54
Video thumbnail
होमी व्यारावाला: भारत की पहली महिला फोटो जर्नलिस्ट | Homai Vyarawalla: First Female Photojournalist
03:23
Video thumbnail
गौहर जान: भारत की पहली 'रिकॉर्डिंग सुपरस्टार’ | Gauhar Jaan: India's First 'Recording Superstar'
03:25
Video thumbnail
मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े पांच मिथ्य | फेमिनिज़म इन इंडिया
05:36
Video thumbnail
वैकोम सत्याग्रह: जातिवाद के ख़िलाफ़ एक सशक्त आंदोलन | The Vaikom Satyagraha in Hindi
04:26
Video thumbnail
फ़ातिमा बेग़म : बॉलीवुड की पहली महिला निर्देशक | Fatma Begum: India's First Female Director
03:50
Video thumbnail
आखिर विज्ञापनों में औरतों को स्टीरियोटाइप क्यों किया जाता है? | Why do our Ads Stereotype Women?
06:09
Video thumbnail
बात महिलाओं के ऑर्गैज़म की | फेमिनिज़म इन इंडिया
05:34
Video thumbnail
चन्नार क्रांति: जिस आंदोलन ने दी ब्राह्मणवादी पितृसत्ता को चुनौती | Channar Revolt in Hindi
04:42
Video thumbnail
क्या होती है विक्टिम ब्लेमिंग ? | What is Victim Blaming ?
07:40
Video thumbnail
बॉलीवुड फिल्मों का कर्ता -धर्ता एक अभिनेता ही क्यों होता है? | Hindi Films and the Saviour Complex
04:15
Video thumbnail
वर्जिनिटी : औरतों की यौन स्वतंत्रता से क्यों डरती है पितृसत्ता? | What is the fuss about Virginity?
06:57
Video thumbnail
इस्मत चुग़ताई : उर्दू की मशहूर लेखिका | Ismat Chughtai : An icon of Urdu literature
05:14
Video thumbnail
जानें, क्या होता है ‘सेफ़ सेक्स’? | What is sex in Hindi? | How to have Safe Sex in Hindi?
05:19
Video thumbnail
शादी की संस्था और हमारा पितृसत्तात्मक समाज | Society's obsession with marriage
04:46
Video thumbnail
टीवी सीरियल हमें क्या सिखाते हैं?
04:44
Video thumbnail
आइए, तोड़ें कॉटन सेनेटरी पैड से जुड़े पांच मिथ्य | फेमिनिज़म इन इंडिया
06:00
Video thumbnail
ऑनलाइन लैंगिक हिंसा के प्रकार | #AbBolnaHoga
06:00
Video thumbnail
अरुणा आसफ़ अली: स्वाधीनता संग्राम की ‘ग्रांड ओल्ड लेडी' | फेमिनिज़म इन इंडिया
04:07
Video thumbnail
गोरी त्वचा से हमारा लगाव क्यों है हानिकारक | Feminism In India
02:27
Video thumbnail
बात सस्टेनबल मेन्स्ट्रुएशन और उससे जुड़ी चुनौतियों की | फेमिनिज़म इन इंडिया
08:20
Video thumbnail
रोज़मर्रा की ज़िंदगी में कैसे लागू हो फेमिनिज्म ? | Feminism In India
02:17

इतिहास

नारीवाद

लॉकडाउन ने कैसे विकसित किया मेरा नारीवादी दृष्टिकोण

"अब तक मेरे व्यक्तित्व को पितृसत्ता की बेड़ियों ने इस प्रकार जकड़ा था कि उससे खुद को मुक्त करा पाना मेरे लिए कठिन कार्य था। अब मैं न केवल अपने साथ बल्कि अपने आसपास औरतों के साथ होनेवाले अत्याचार, मानसिक और सामाजिक उत्पीड़न को ठीक तरह से समझ पा रही थी।"

अच्छी ख़बर

डॉ. नल्लथंबी कलईसेल्वीः सीएसआईआर के 80 साल के इतिहास में पहली महिला महानिदेशक

डॉ. नल्लथंबी कलईसेल्वी ने विज्ञान के कार्यक्षेत्र में एक और बाधा पार करते हुए सीएसआईआर के महानिदेशक के पदभार को संभाल कर इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया हैं। इस पद पर पहुंचने वाली वाली वह पहली महिला हैं।
Skip to content