हिंदी में होगी अब जेंडर और नारीवाद की बात फेमिनिज़म इन इंडिया के साथ

इंटरसेक्शनल

स्वास्थ्य

चलिए दूर करें, कपड़े से बने सैनिटरी पैड्स से जुड़ी ये गलतफ़हमियां

कपड़े से बने सैनेटरी पैड्स न केवल प्रकृति के लिए बल्कि हमारे स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होता है, क्योंकि इसमें ज़ीरो प्लास्टिक का इस्तेमाल होता है।

पितृसत्ता से जुड़ी है कोविड-19 से उपजी महिलाओं की बेरोज़गारी और खाद्य संकट

महिलाओं का कुपोषण भले आज सरकार के लिए मुद्दा बना हो, लेकिन न तो यह भारतीय घरों में चिंता का विषय है और न ही महिलाओं के स्वास्थ्य में कोई उल्लेखनीय सुधार हुआ है।

समाज

इरोम चानू शर्मिला : 16 सालों तक क्यों भूख हड़ताल पर रही ये एक्टिविस्ट

इरोम भारत के उत्तर पूर्वी राज्यों में लागू आर्म्ड फोर्स स्पेशल पॉवर एक्ट (AFSPA) के खिलाफ़ कई सालों तक अनशन पर बैठी रही। उनका यह अनशन नवंबर 2000 से अगस्त 2016 तक लगातार 16 वर्षों से जारी रहा।

संस्कृति

बात बॉलीवुड के आइटम सॉन्ग में मेल गेज़ की

राउडी राठौर के गाने 'आ रे प्रीतम प्यारे' गाने में आदमियों का ग्रुप लड़कियों के पीछे भागता है और वह हंसकर उनके लिए नाच रही होती है। यह सब यहीं दिखाता है कि औरतें मेल गेज़ को पसंद करती हैं जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

इशरत सुल्ताना उर्फ़ ‘बिब्बो’ जिनकी कला को भारत-पाकिस्तान का बंटवारा भी नहीं बांध पाया

भले ही भारत-पाकिस्तान का बंटवारा हो गया हो लेकिन इशरत सुल्ताना का फिल्म में काम करना जारी रहा। पाकिस्तान में उन्होंने करैक्टर आर्टिस्ट के रूप में अपनी पहचान को और मजबूत किया।

ट्रेंडिंग

महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा: नारी-चेतना की ‘अद्वितीय विचारक’ | #IndianWomenInHistory

0
हिंदी साहित्य के छायावादी युग की प्रसिद्ध और प्रतिष्ठित कवियत्री महादेवी वर्मा की गद्य एवं पद्य की रचनाओं से उनके व्यक्तित्व के दो पहलू देखने को मिलते हैं|
इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

2
संविधान सभा में हम उन प्रमुख पंद्रह महिला सदस्यों का योगदान आसानी से भुला चुके है या यों कहें कि हमने कभी इसे याद करने या तलाशने की जहमत नहीं की| तो आइये जानते है उन पन्द्रह भारतीय महिलाओं के बारे में जिन्होंने संविधान निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दिया है|  
पितृसत्ता क्या है? – आइये जाने  

पितृसत्ता क्या है? – आइये जाने  

पितृसत्ता एक ऐसी व्यवस्था के रूप में परिभाषित किया जाता है जिसमें पुरुषों का महिलाओं पर वर्चस्व रहता है और वे उनका शोषण और उत्पीड़न करते हैं|

आपके पसंदीदा लेख

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

मासिकधर्म और सैनिटरी पैड पर हमारे घरों में चर्चा करने की बेहद ज़रूरत है और जिसकी शुरुआत हम महिलाओं को ही करनी होगी।
लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

6
गाँव हो या शहर व्यवहार से लेकर काम तक लैंगिक समानता हमारे समाज में मौजूद है, जो हमारे देश के लिए एजेंडा 2030 को पूरा करने में बड़ी चुनौती है|
उफ्फ! क्या है ये नारीवादी सिद्धांत? आओ जाने!

उफ्फ! क्या है ये ‘नारीवादी सिद्धांत?’ आओ जाने!

2
नारीवाद के बारे में सभी ने सुना होगा। मगर यह है क्या? इसके दर्शन और सिद्धांत के बारे में ज्यादातर लोगों को नहीं मालूम। इसे पूरी तरह जाने और समझे बिना नारीवाद पर कोई भी बहस या विमर्श बेमानी है। नव उदारवाद के बाद भारतीय समाज में महिलाओं के प्रति आए बदलाव के बाद इन सिद्धांतों को जानना अब और भी जरूरी हो गया है।

फॉलो करे

7,127FansLike
2,948FollowersFollow
2,111FollowersFollow
438SubscribersSubscribe
Video thumbnail
आइए, तोड़ें कॉटन सेनेटरी पैड से जुड़े पांच मिथ्य
06:00
Video thumbnail
ऑनलाइन लैंगिक हिंसा के प्रकार | #AbBolnaHoga
06:00
Video thumbnail
अरुणा आसफ़ अली: स्वाधीनता संग्राम की ‘ग्रांड ओल्ड लेडी'
04:07
Video thumbnail
गोरी त्वचा से हमारा लगाव क्यों है हानिकारक | Feminism In India
02:27
Video thumbnail
बात सस्टेनबल मेन्स्ट्रुएशन और उससे जुड़ी चुनौतियों की।
08:20
Video thumbnail
रोज़मर्रा की ज़िंदगी में कैसे लागू हो फेमिनिज्म ? | Feminism In India
02:17
Video thumbnail
मैरिटल रेप भारत में एक अपराध क्यों नहीं है?
06:27
Video thumbnail
बदलता पर्यावरण और उसका संरक्षण | Feminism In India
05:07
Video thumbnail
आखिर बॉलीवुड के आइटम सॉन्ग्स महिला विरोधी क्यों होते हैं?
04:37
Video thumbnail
लॉकडाउन के दौरान क्यों बढ़े घरेलू हिंसा के मामले | Feminism In India
03:28
Video thumbnail
जानें क्या है पॉली सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS)
06:12
Video thumbnail
भारत में कार्यस्थलों पर होने वाले यौन उत्पीड़न से जुड़े कानून | #AbBolnaHoga
05:13
Video thumbnail
15 भारतीय महिलाएं जिन्होंने भारतीय संविधान को आकार दिया।
06:25
Video thumbnail
जानें, महिलाओं को होने वाले इन चार यौन संचारित रोगों के बारे में।
04:41
Video thumbnail
"नारीवाद को राजनीतिक नहीं होना चाहिए" क्या आप भी ऐसा सोचते हैं, तो ये वीडियो आपके लिए है।
06:18
Video thumbnail
महादेवी वर्मा : नारी-चेतना की अद्वितीय विचारक
05:36
Video thumbnail
आइए, जानते हैं, क्या है Benevolent Sexism?
05:58
Video thumbnail
अन्नै मीनमबल शिवराज : दलित राजनीति का एक महत्वपूर्ण नाम
04:10
Video thumbnail
औरत ही औरत की सबसे बड़ी दुश्मन है! अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो ये वीडियो आपके लिए है।
07:11
Video thumbnail
झलकारी बाई : 1857 के संग्राम की दलित वीरांगना
04:06
Video thumbnail
फूलन देवी : चंबल घाटी से लोकसभा तक का सफर तय करने वाली महिला
05:42
Video thumbnail
कोरोनाकाल में स्वास्थ्य समस्याएँ | फेमिनिज्म इन इंडिया
05:39
Video thumbnail
नारीवाद=मर्दों का विरोध' चलिए दूर करें नारीवाद से जुड़े ऐसे ही पांच मिथ्य | फेमिनिज़म इन इंडिया
06:52
Video thumbnail
जेल से अपने पैरों पर रिपोर्ट लिखकर लौटे स्वतंत्र पत्रकार मनदीप पुनिया | फेमिनिज़म इन इंडिया
02:43
Video thumbnail
दिल्ली की गद्दी संभालने वाली पहली और आखिरी शासिका रज़िया सुल्तान | फेमिनिज़म इन इंडिया
04:22
Video thumbnail
आइए, तोड़ें ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) से जुड़े पांच मिथ्य | फेमिनिज़म इन इंडिया
05:14
Video thumbnail
पीरियड्स (Periods) से जुड़ीं 5 गलतफहमियां | फेमिनिज़म इन इंडिया
02:42
Video thumbnail
सावित्रीबाई फुले Savitribai Phule: जिन्होंने भारत में महिला शिक्षा की नींव रखी | फेमिनिज़म इन इंडिया
04:14
Video thumbnail
नारीवादी पेरियार (Periyar) की कहानी | फेमिनिज़म इन इंडिया
04:20
Video thumbnail
#DilliChalo: दिल्ली के टिकरी और सिंघु बॉर्डर से ग्राउंड रिपोर्ट
06:42
Video thumbnail
अबॉर्शन से जुड़े मिथ्य और सवाल | फेमिनिज़म इन इंडिया
41:17
Video thumbnail
हरियाणा में जाति आधारित यौन हिंसा के मुद्दे पर मनीषा मशाल के साथ ख़ास बातचीत I फेमिनिज़म इन इंडिया
06:57
Video thumbnail
जानिए LGBTQIA+ की परिभाषा, आसान शब्दों में । फेमिनिज़म इन इंडिया
07:37
Video thumbnail
महामारी COVID 19 के दौरान अनपेड केयर वर्क | फेमिनिज़म इन इंडिया
03:11
Video thumbnail
Abortion Myths I अबॉर्शन से जुड़े मिथ्य I फेमिनिज़म इन इंडिया
05:15
Video thumbnail
मीना कोटवाल : पत्रकारिता और महिलाएं I फेमिनिज़म इन इंडिया
34:58
Video thumbnail
अमृता प्रीतम (Amrita Pritam): साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित होने वाली पहली भारतीय महिला
04:25
Video thumbnail
आसान भाषा में समझिए पितृसत्ता (Patriarchy) क्या है? I फेमिनिज़म इन इंडिया
05:59
Video thumbnail
कमला भसीन : पितृसत्ता का बदलता स्वरूप और नारीवाद के सवाल I फेमिनिज़म इन इंडिया
01:03:03
Video thumbnail
इंटेरसेक्शनल नारीवाद (Intersectional Feminism) क्या है?। फेमिनिज़म इन इंडिया
03:08

इतिहास

इशरत सुल्ताना उर्फ़ ‘बिब्बो’ जिनकी कला को भारत-पाकिस्तान का बंटवारा भी नहीं बांध पाया

भले ही भारत-पाकिस्तान का बंटवारा हो गया हो लेकिन इशरत सुल्ताना का फिल्म में काम करना जारी रहा। पाकिस्तान में उन्होंने करैक्टर आर्टिस्ट के रूप में अपनी पहचान को और मजबूत किया।

नारीवाद

अच्छी ख़बर

अनाथों की मां : पद्मश्री सिंधुताई सपकाल

सिंधुताई को ऐसे बच्चे मिले, जो उनसे ज़्यादा ज़रूरत में थे, जो पेट भरने की जद्दोजहद कर रहे थे। बच्चों का दुख उनसे देखा न गया। सिंधुताई ने ज़्यादा भीख मांगना शुरू किया। उन्हें जो भी मिलता, वे बाकी बच्चों के साथ मिल- बांट कर खातीं।
Skip to content