FII Hindi is now on Telegram

शुभिका गर्ग

वो ड्राइविंग करती हैं ,वो एरोप्लेन उड़ाती हैं ,वो ताइक्वांडो में दक्ष हैं और ट्रेंनिग भी देती हैं, वो घुड़सवारी भी करती हैं, वो पियानो बजाती हैं, वो घर के छोटे बड़े काम खुद करती हैं, वो अपना मेकअप खुद करती हैं, इन सबके अलावा और भी कई ऐसे काम हैं जो वो करती हैं ! अब आप कहेंगे इसमें क्या खास बात है? इससे थोड़ा कम या थोड़ा ज्यादा तो दुनिया की हर औरत तो ये सब करती है। लेकिन जरा एक पल ठहरिए और ध्यान से सुनिए। यकीनन सारी औरतें ये काम करती हैं लेकिन वे ये सारे काम अपने हाथों से करती हैं ,पर आज हम आपको जिस शख्सियत से मिलवाने जा रहे हैं वो ये सारे काम अपने पैरों की सहायता से करती हैं। अब कहिए है ना खास बात ? 

‘जेसिका कॉक्स’ नाम है इनका। ये दुनिया की ऐसी पहली महिला पायलट हैं जो पैरों से एरोप्लेन उड़ाती हैं और इतना ही नहीं वे विश्व की पहली लायसेंसधारी आर्मलेस पायलट हैं जिसके लिए इनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया जा चुका है। 

जेसिका का जन्म 2 फरवरी, 1983 को अमेरिका के एरिजोना में हुआ था। जेसिका के हाथ जन्म से ही नहीं है, यानी वे बिना हाथों के जन्मी हैं।  जब उनका जन्म हुआ था तब उन्हें देखकर उनके पेरेंट्स हैरान रह गए थे, क्योंकि जन्म के पहले हुए किसी भी प्रकार के टेस्ट्स में यह बात सामने नहीं आई थी कि गर्भ में जेसिका के हाथों की रचना नहीं हुई है। 

Become an FII Member

और पढ़ें : लाइबि ओइनम : मणिपुर की पहली महिला ऑटो चालक

पेरेंट्स ने जेसिका के लिए प्रोस्थेटिक हाथ बनवा दिए थे। बहुत सालों तक उन्होंने प्रोस्थेटिक हाथों से ही काम किया। लेकिन जेसिका अब इस कृत्रिमता से ऊब चुकी थीं। वे जैसी हैं वैसी ही रहना चाहती थीं। तब जेसिका ने 14 साल की उम्र से अपने पैरों से काम करना शुरु कर दिया। शुरुआत में बहुत दिक्कतें आती थीं, लेकिन दृढ़निश्चयी जेसिका ने हार मानना सीखा ही नहीं था। वे लगातार कोशिश करती रहीं, नतीजतन वे सारे काम पैरों की सहायता से करने में दक्ष हो गईं।

‘जेसिका कॉक्स’ दुनिया की ऐसी पहली महिला पायलट हैं जो पैरों से एरोप्लेन उड़ाती हैं और इतना ही नहीं वे विश्व की पहली लायसेंसधारी आर्मलेस पायलट हैं।

जब वह 22 साल की थीं तब उन्होंने ने अपने पैरों से विमान उड़ाना सीख लिया था। जेसिका ने अब तक 23 देशों की उड़ान भरी है। जेसिका ने साल 2012 में पैट्रिक चैंबरलेन से शादी की थी। उनके पति ने उन्हें शादी की अंगूठी उनके पैरों में पहनाई थी। 

जेसिका के नाम और अन्य बहुत से रिकॉर्ड्स हैं। जेसिका एक बेमिसाल महिला हैं । उन्होंने यह सिद्ध कर दिखाया है कि शरीर में चाहे कितनी भी कमी क्यों न हो अगर आप अपने ऊपर विश्वास रखते हैं तो दुनिया की कोई ताकत आपको हरा नहीं सकती। जेसिका आपके जज्बे को सलाम है।

और पढ़ें : होमी व्यारावाला : कैमरे में कहानियाँ कैद करने वाली पहली भारतीय महिला


यह लेख इससे पहले मॉमप्रेसो में प्रकाशित किया जा चुका है।

तस्वीर साभार : bhaskar.com

मॉम्सप्रेस्सो (पहले mycity4kids) आज की बहुआयामी माओं का एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ उनकी ज़रुरत की हर सामग्री प्रदान की जाती है | मॉम्सप्रेस्सो पर न केवल माओं की परेंटिंग संबंधी हर शंका का समाधान किया जाता है |अपितु एक माँ के अलावा महिला होने की उसकी व्यक्तिगत यात्रा के हर पहलू पर उसकी मदद की जाती है |

Follow FII channels on Youtube and Telegram for latest updates.

नारीवादी मीडिया को ज़रूरत है नारीवादी साथियों की

हमारा प्रीमियम कॉन्टेंट और ख़ास ऑफर्स पाएं और हमारा साथ दें ताकि हम एक स्वतंत्र संस्थान के तौर पर अपना काम जारी रख सकें।

फेमिनिज़म इन इंडिया के सदस्य बनें

अपना प्लान चुनें

Leave a Reply