FII is now on Telegram
2 mins readमेरा सपना अपने लोगों के लिए काम करना है, ऐसा करना मेरी जिम्मेदारी है।” ये वाक्य है मानवाधिकार कार्यकर्ता अभय जाजा के। अभय जाजा, छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में जन्मे। जेएनयू (जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय) से पीएचडी करके प्रोफेसर बनना चाहते थे। ताकि अपने लेक्चरों से अपने समाज के लोगों के लिए अपना कुछ योगदान दे सके। अभय जाजा एक ऐसे और शायद इकलौते आदिवासी लीडर थे, जिन्होंने आदिवासियों और दलित शोषित वर्ग के लिए मुख्यधारा के समाज के साथ पुल बनाने का काम किया। जल, जंगल और जमीन के लिए लड़ने वाले लीडर। हर साल कई सारी योजनाएं केंद्र और राज्य सरकारें आदिवासियों के लिए बनाती है। लेकिन हर योजना में कुछ न कुछ खामियां होती है और उद्योगपतियों का फायदा उसमें छुपा होता है। अभय जाजा ने इन योजनाओं को लेकर आदिवासियों को जागरूक और सशक्त किया। उन्होंने इससे आगे बढ़कर एक आदिवासियों के हितों को ध्यान में रखकर एक बिल भी ड्राफ्ट किया था। यह उनकी उपलब्धियों में से एक बेहद जरूरी काम था। अभय एक ऐसे मानवाधिकार कार्यकर्ता थे, जो बंधुआ मजदूरी, दलित अधिकार, आदिवासी अधिकार, बजट अधिकार, शिक्षा, न्याय, ऐसे कई अन्य विषयों में विशेषज्ञता थी। हालांकि  हम उन्हें केवल आदिवासी अधिकार कार्यकर्ता के रूप में ही याद करते हैं।
अभय जाजा एक ऐसे और शायद इकलौते आदिवासी लीडर थे, जिन्होंने आदिवासियों और दलित शोषित वर्ग के लिए मुख्यधारा के समाज के साथ पुल बनाने का काम किया।
साल 2012 में अभय जाजा दलित मानवाधिकार के राष्ट्रीय अभियान से जुड़े। उन्होंने जिंदगी में कभी छोटा नहीं सोचा। हमेशा बड़ा सोचा, समाज हित में, दलित हितों के लिए उनके सशक्तिकरण के लिए कार्य किया। वे कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में दलितों के साथ होने वाले जातिगत भेदभावपूर्ण रवैए को लेकर हमेशा अपनी बुलंद आवाज से विरोध करते। उनके साथ रहने वाले उनके करीबी उन्हें दादा या बाबाकहकर अपनापन दिखाते। उनके अनुसार उनके दादा नए विचार और नए नजरिए वाले व्यक्ति थे। जो अपनी मुस्कान के साथ ऐसे प्रभावशाली भाषण देते। और पढ़ें : आदिवासी शहीद वीर नारायण सिंह से आज हम क्या सीख सकते हैं

आदिवासियों के अधिकारों की रक्षा और यह सुनिश्चित करने के लिए कि उनकी आवाज सुनी जाती है। अभय की प्रतिबद्धता किसी से पीछे नहीं थी। वे पहले आदिवासी थे जिन्हें विदेश जाकर पढ़ाई करने के लिए फ़ोर्ड फ़ेलोशिप मिली थी।

वे एक एक्टिविस्ट तो थे ही वो एक कवि भी थे और एक स्तंभकार भी थे। उन्होंने हमेशा अपनी कविताओं और लेखन में आदिवासी समाज के हितों को लेकर बातें करते। प्रकृति से उनका नाता और उद्योगपतियों द्वारा शोषित बताते। अभय अपने लेखन से आदिवासियों को जागरूक करते और उनके सशक्तिकरण की बातें करते। उन्हें सशक्त बनाते। वे एक ऐसे बुद्धिजीवियों में थे, जिन्होंने अपनी बुद्धि का इस्तेमाल लोगों के लिए किया। अपनी बातों से, लेखन से। उनके निधन के साथ पूरे मानवाधिकार कार्यकर्ताओं में जो कमी आई है, उस कमी को शायद कोई पूरा नहीं कर सकता। और पढ़ें : मैं आपकी स्टीरियोटाइप जैसी नहीं फिर भी आदिवासी हूं
तस्वीर साभार : indiaspend

 

Support us

1 COMMENT

  1. Thank you for the basic information about this activist. However, I’m unable to find any more details about him or his work, or even his death, anywhere else on the internet. Are there any other sources to know more about him and his work please?

Leave a Reply