FII is now on Telegram
4 mins read

समय के साथ, पीरियड्स के लिए टैम्पोन, पैड, कपड़े से बने पैड, और अब मेंस्ट्रुअल कप के रूप में हमारे सामने कई विकल्प मौजूद हैं। हालांकि यह भी एक सच्चाई है कि आज भी हमारे देश में बहुत ही कम महिलाओं तक इन प्रोडक्ट्स की पहुंच है। इस लेख में आज हम बात करेंगे मेंस्ट्रुअल कप से जुड़े मिथ्य और गलत धारणाओं की। सेनेटरी पैड और टैम्पून पीरियड्स के खून को अब्सॉर्ब करते हैं यानी सोख लेते हैं। वहीं मेंस्ट्रुअल कप पीरियड ब्लड को इकट्ठा करते हैं, उस ब्लड को फेंकने के बाद, इन कप्स को साफ करके दोबारा इस्तेमाल भी आसानी से किया जा सकता है। इन कप्स की सबसे बड़ी ख़ासियत यह भी है कि ये लंबे समय तक चलते हैं और इसीलिए ये इको-फ्रेंडली भी हैं। लेकिन जागरूकता की कमी की वजह से इनके इस्तेमाल को लेकर लोगों के मन में गलत धारणाएं हैं। आइए, आज के इस लेख में इन्हीं मिथकों को तोड़ें।

मेंस्ट्रुअल कप से संक्रमण हो सकता है

मेंस्ट्रुअल कप मेडिकल ग्रेड सिलिकॉन से बने होते हैं जिनसे त्वचा या वजाइनल म्यूकस पर कोई संक्रमण नहीं होता है। इनसे संक्रमण का जोखिम अभी भी सैद्धांतिक है और किसी भी चिकित्सा या अध्ययन से अब तक साबित नहीं हुआ है। इसलिए आप बेझिझक अपने पीरियड्स के दौरान मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल कर सकते हैं।

मेंस्ट्रुअल कप का प्रयोग बहुत ही असुविधाजनक/ दर्दनाक होता है 

यह मिथक मेंस्ट्रुअल कप के बारे में सबसे ज़्यादा प्रचलित है। दो-तीन बार इस कप इस्तेमाल करने के बाद इनका प्रयोग करना बहुत आसान हो जाता है। मेंस्ट्रुअल कप बेहद ही नरम और लचीले होते हैं इसलिए ये बड़ी ही आसानी से योनि में अच्छी तरह से फिट हो जाते हैं। ये अलग-अलग साइज़ों में भी बाज़ार में उपलब्ध होते हैं।

और पढ़ें : पीरियड पर बात से ‘लैंगिक संवेदनशीलता’ की बात बनने लगती है।

मेंस्ट्रुअल कप को रख-रखाव की अधिक आवश्यकता होती है

पीरियड्स के हर साइकिल के बीच में मेंस्ट्रुअल कप को केवल एक बार ही स्टरलाइज या डिसइन्फेक्ट करना काफी होता है। इन्हें साफ़ रखने के लिए डिसइन्फेक्टिंग लिक्विड का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे आपकी अलमारी या दराज जैसी सूखी जगह में किसी साफ़ कपड़े में लपेटकर रखना जाना चाहिए। अगर इन्हें ठीक तरीके से रखा जाए तो मेंस्ट्रुअल कप को 10 सालों तक आसानी से चल सकते हैं। इससे न सिर्फ हम पर्यावरण का नुकसान करने से बचाते हैं बल्कि यह हमारी अपनी जेब के लिए भी किफायती होते हैं।

मेंस्ट्रुअल कप वर्जिनिटी को प्रभावित करते हैं

मेंस्ट्रुअल कप और वर्जिनिटी का आपस में कोई संबंध नहीं है। हाइमन की उपस्थिति या अनुपस्थिति को वर्जिनिटी का संकेत नहीं माना जा सकता क्योंकि शारीरिक व्यायाम या किसी काम के दौरान भी हाइमन टूट सकता है। इसलिए इस मिथक को तोड़ते हुए आप आसानी से इसका उपयोग कर सकती हैं। यह मिथक भी वर्जिनिटी को लेकर पितृसत्ता द्वारा रखी गई नींव पर ही आधारित है जिसे तोड़ना बेहद ज़रूरी है।

मेंस्ट्रुअल कप की वजह से हमें अपने पीरियड्स के रक्त पर हाथ लगाना पड़ता है जो कि ठीक नहीं है

हम सभी रक्त को दर्द, चोट या बीमारी से जोड़ते हैं। लेकिन अगर पीरियड्स का रक्त किसी बीमारी या चोट की वजह से नहीं आता है। जब मेंस्ट्रुअल कप वजाइना के अंदर डाला जाता है तो थोड़ा बहुत रक्त उंगलियों पर लगना लाज़मी है। इसे टाला नहीं जा सकता। लेकिन इसकी वजह से चिंतित होने की जरूरत नहीं है। पीरियड्स ब्लड को अलग से किसी एक विशेष श्रेणी में रखने का कोई कारण नहीं है। साफ-सफ़ाई का ध्यान रखने के लिए कप को वजाइना में डालने से पहले और उपयोग करने के बाद साबुन और पानी से धोएं। उसी तरह अपने जेनाटल्स को छूने से पहले भी अपने हाथों को ज़रूर साफ रखें।

और पढ़ें : आइए पीरियड्स पर चर्चा करें और मिथ्य तोड़े !

मेंस्ट्रुअल कप हेवी पीरियड्स को संभालने के लिए बहुत छोटे होते हैं

कई लोग ये भी मानते हैं कि एक छोटा सा कप पीरियड्स को कैसे संभाल सकता है, खासकर तब जब हेवी फ्लो हो रहा हो। लेकिन ये कप हेवी फ्लो को भी संभालने में पूरी तरह सक्षम होते हैं। साथ ही साथ ये सैनिटरी पैड और टैंपोन से कई मामलों में बेहतर साबित होते हैं।

हर किसी को एक ही साइज़ के मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग करना होता है

मेंस्ट्रुअल कप खरीदने से पहले ये पता कर लें कि आपके लिए कौन सा साइज़ ठीक रहेगा। अगर इस्तेमाल करने के बाद भी आपको ये असुविधाजनक लगता है तो शायद आपके साइज़ में कोई समस्या हो सकती है। याद रखें, शरीर की आकृति और आकार से कप के साइज़ का पता नहीं लगाया जा सकता। वजाइनल कैनाल के आकार को ध्यान में रखते हुए अपने कप के साइज़ का निर्णय लें।      

जब आप मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग करते हैं, तब आप सो नहीं सकते 

यह भी एक मिथक से ज्यादा कुछ नहीं है। मेंस्ट्रुअल कप पहने हुए, पीरियड ब्लड के लीक की चिंता किए बगैर, आप आसानी से सो सकते हैं।

और पढ़ें : पीरियड में इन प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल पर्यावरण को रखेगा सुरक्षित

जब आप मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग करते है, तब आप एक्सरसाइज नहीं कर सकते हैं

मेंस्ट्रुअल कप सक्रिय जीवन शैली के लिए एक बहुत ही बढ़िया विकल्प है। यह व्यायाम के दौरान टैम्पोन और सैनिटरी पैड की तरह लीक या स्लाइड नहीं करता है। यहां तक कि आप इन्हें पहनकर आसानी से स्वीमिंग भी कर सकती हैं।

मेंस्ट्रुअल कप के उपयोग करने के दौरान ट्रेवल नहीं किया जा सकता  

ये सच नहीं हैं। मेंस्ट्रुअल कप के साथ आसानी से ट्रैवल किया जा सकता है, लेकिन इसका ध्यान रखना चाहिए कि जहां भी आप जाए वहां आप को साफ़ पानी मिल पाए जिससे आप कप को वापस उपयोग करने से पहले धो सकें।  

व्यायाम में आसानी, तैराकी और यात्रा की संभावना, कोई रैशेज नहीं, कोई एक्स्ट्रा सप्लाई की जरूरत के बगैर और पर्यावरण पर बिना कोई बोझ बने, इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है इन सभी कारणों की वजह से मेंस्ट्रुअल कप दूसरे पीरियड्स प्रॉडक्ट्स के मुकाबले एक बेहद ही सस्टेनेबल विकल्प हैं।  

और पढ़ें : ‘पीरियड का खून नहीं समाज की सोच गंदी है|’


तस्वीर साभार : ruby cup

Support us

Leave a Reply