FII is now on Telegram

सुनीता भदौरिया

तारशी ने साल 2010 में ‘भारतीय संदर्भ में यौनिकता और विकलांगता’ कार्यशील परिपत्र (वर्किंग पेपर) निकाला गया था। इस पेपर में शामिल जानकारी विकलांगता के साथ रह रहे लोगों के माता-पिता, शिक्षकों, अन्य देखभाल प्रदाताओं, इस क्षेत्र के पेशेवरों, सक्रियतावादियों (एक्टिविस्ट), पैरोकारों के साथ बातचीत और भारत में यौनिकता और विकलांगता से संबंधित मौजूदा कानूनों और नीतियों की समीक्षा से आती है। यौनिकता और विकलांगता एक ऐसा अन्तःप्रतिच्छेदन (इंटरसेक्शन) है जो नया तो नहीं है लेकिन जिसपर ज़्यादा बातचीत भी नहीं हुई है। तारशी के वर्किंग पेपर के ज़रिए इसी संबंध को समझने की कोशिश कि गई है, प्रस्तुत हैं उसी पेपर के कुछ अंश और उसपर आधारित मेरे विचार। 

यौनिकता मानव जीवन का एक अभिन्न हिस्सा होने के बावजूद, दुनिया के अनेक समाजों में एक वर्जित विषय है और विकलांगता के साथ रह रहे व्यक्ति के लिए यौनिकता के बारे में सोचना तो शायद कल्पना से भी परे की बात है। ऐसा सिर्फ़ इसलिए नहीं कि वे विकलांग हैं बल्कि इसका एक कारण यह भी है कि परिवार और समाज उन्हें हमेशा एक ऐसे ‘बच्चे’ की तरह देखता है जिसे हर वक्त सुरक्षा और सहारे की ज़रूरत होती है। उन्हें बिरले ही कभी अपने फैसले लेने या उन लोगों की तरह रहने और महसूस करने का मौका मिलता है जिनमें विकलांगता ना हो। कोई न कोई उनके आस-पास मँडराता रहता है या यह तय कर रहा होता है कि उनके लिए क्या सही है और उन्हें किस चीज़ की ज़रूरत हो सकती है। इसके साथ-साथ उनकी पहुँच सीमित होती है, समाज की सोच नकारात्मक है और इन सब के अलावा उनके पास अन्य लोगों की तरह शिक्षा, मनोरंजन, सामाजिक और स्वास्थ्य सुविधाएँ और अधिकार भी नहीं हैं।  

साल 2010 में, जब यौनिकता और विकलांगता पर पेपर के लिए शोध किया गया था उस समय समाज में इन दोनों के बीच संबंध मुश्किल से ही नज़र आता था। आमतौर पर विकलांगता के साथ रह रहे लोगों की यौन ज़रूरतों और अभिव्यक्तियों को अनदेखा किया जाता था। आम नज़रिया यह था (और अब भी है) कि विकलांग व्यक्ति यौन रूप से सक्रिय नहीं होते – उन्हें यौन रूप से सक्रिय नहीं होना चाहिए। जबकि सच यह है कि विकलांगता के साथ रह रहे लोगों में भी बाकी और लोगों की तरह सेक्स की भावनाएँ, कल्पनाएँ और इच्छाएँ होती हैं, लेकिन विकलांगता के साथ रह रहे लोगों की यौनिकता के बारे में प्रचलित सामाजिक मान्यताओं के कारण उन्हें अपनी यौनिकता को अभिव्यक्त करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। यौन संबंधों से जुड़ी बाधाओं के कारण विकलांगता के साथ रह रहे लोगों के लिए अपनी इच्छाओं को व्यक्त करने के बजाए उन्हें नकारना आसान होता है। 

Become an FII Member

और पढ़ें : क्या है ‘यौनिकता’ और इसकी खासियत ? – आइये जाने

हाल ही में मुझे विकलांगता पर एक सम्मेलन में भाग लेने का मौका मिला लेकिन वहाँ जो बातें हुईं वे इस बात की पुष्टि करती हैं कि आज भी हम विकलांगता के साथ रह रहे लोगों को समाज में एक बोझ की तरह देखते हैं। आज भी सारा ज़ोर इसबात पर लगाते हैं कि उन्हें कैसे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जाए जिससे वे खुद कमा और खा सकें। यहाँ दुःख की बात यह है कि उनकी यह आत्मनिर्भरता उनके अधिकार के रूप में नहीं बल्कि सामाजिक ‘उपकार’ के रूप में उन्हें दी जाती है। हम उन्हें कमाने के लायक तो बनाना चाहते हैं लेकिन उन्हें एक आम इंसान की तरह नहीं देखना चाहते जिनकी बाकियों की तरह सामान्य इच्छाएँ हैं, वे चाहे कमाई को लेकर हों या पढ़ाई, संबंध, शादी, परिवार या बच्चे को लेकर हों। 

उपकार का यह दृष्टिकोण और विकलांगता के साथ रहे लोगों की आवश्यकताओं को नज़रंदाज़ करने का ये रवैया मेरे मन के इस सवाल को और भी दृढ़ कर देता है कि कोई विकलांग हो या न हो सबकी मूलभूत आवश्यकताएँ तो समान ही हैं, फिर यह पक्षपात क्यों? मेरी बात थोड़ी काल्पनिक या दार्शनिक लग सकती है लेकिन सच तो यही है कि सूरज, चाँद और तारे सब पर बराबर रोशनी डालते हैं, चोट लगने पर सभी को दर्द होता है और खुशी होने पर सबके चेहरे पर मुस्कुराहट आती है। भले ही कितने ही अंतर हों फिर भी यह नहीं कहा जा सकता कि अमुक अंतर के कारण व्यक्ति में किसी प्रकार की कोई भावना या इच्छा है ही नहीं। 

यौनिकता और विकलांगता को समझने के लिए इसपर एक नज़रिया ज़रूरी है और इसके लिए यह जानना ज़रूरी है कि यौनिकता के कोई मायने हैं और क्या इससे कोई फ़र्क पड़ता है।

तारशी के इस पेपर में इसी बात पर ध्यान दिलाने की कोशिश की गयी है। यौनिकता और विकलांगता के इंटरसेक्शन पर संवाद राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर शुरू हो गए हैं। यह कहा जा सकता है कि शुरुआत ज़रूर हुई है हालाँकि दिल्ली अभी दूर है और इस विषय पर और बात करने की ज़रूरत है। आमिर खान के टीवी शो ‘सत्यमेव जयते’ का उल्लेख करते हुए इस पेपर में बताया गया है कि इस टीवी प्रोग्राम के विकलांगता के साथ रह रहे लोगों वाले एपिसोड ने काफ़ी प्रभाव छोड़ा और वर्ष 2015 में भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्रालय और एनएफ़डीसी के संयोजन से, दिल्ली में, विकलांगता के साथ रह रहे लोगों के लिए पहला अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म समारोह भी आयोजित किया गया। इस प्रकार, पिछले कुछ सालों में संचार और सभी अन्य क्षेत्रों में समावेशन की बेहतर समझ और स्वीकृति बनाने के प्रयास भी किए गए हैं, जो एक अच्छी खबर है!

यौनिकता और विकलांगता को समझने के लिए इसपर एक नज़रिया ज़रूरी है और इसके लिए यह जानना ज़रूरी है कि यौनिकता के कोई मायने हैं और क्या इससे कोई फ़र्क पड़ता है। इससे भी बड़ा सवाल है कि क्या ये मुद्दे सबके लिए समान हैं। इस विषय पर भी पेपर में अन्य अध्ययनों और शोधों के हवाले से प्रकाश डाला गया है। साथ ही इस पेपर में भारत में विकलांगता के साथ रह रहे लोगों और कुछ आंकड़ों का भी जिक्र किया गया है। आंकड़े विश्व स्वास्थ्य संगठन, वर्ल्ड बैंक, भारत की 2011 जनगणना रिपोर्ट, और यू.एन. की मानव विकास रिपोर्ट, 2016 से लिए गए हैं। यह इसलिए ज़रूरी है क्योंकि ‘छोटी संख्या’ का मतलब ‘कम अधिकार’ नहीं होता है।

और पढ़ें : ‘यौनिकता, जेंडर और अधिकार’ पर एक प्रभावी क्रिया  

विकलांगता से जुड़ी नीतियों को जानना महत्वपूर्ण है। यह पेपर दर्शाता है कि कैसे वैश्विक रूप से विकलांगता नीतियाँ रोकथाम और पुनर्वास के नज़रिए से बदलकर विकलांगता के साथ रह रहे लोगों के लिए समान अवसरों की ओर उन्मुख हुई हैं। विकलांगता से संबंधित अंतरराष्ट्रीय नीतियों और भारतीय कानूनों पर प्रासंगिक जानकारी भी पेश की गई है।

जब यौनिकता, यौन स्वास्थ्य और अधिकारों की बात आती है तो यह देखा जाता है कि इस क्षे़त्र में यौनिकता और विकलांगता को लेकर कई अवधारणाएँ हैं। इसमें सबसे बड़ी गलतफ़हमी यह है कि विकलांगता के साथ रह रहे लोगों में या तो ‘यौन इच्छाएँ होती ही नहीं’ या फिर ‘ज़रूरत से ज़्यादा यौन इच्छाएँ होती हैं। यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य और यौनिकता से जुड़े मुद्दे यूँ तो समाज के सभी हिस्सों और सभी पृष्ठभूमियों के व्यक्तियों को प्रभावित करते हैं। फिर भी गंभीर बहु-विकलांगताओं और/या बौद्धिक विकलांगताओं को छोड़कर, विकलांगताओं के साथ रह रहे लोगों की बहुत सारी चिंताएँ गैर विकलांग लोगों के समान ही होती हैं। उदाहरण के लिए विकलांग हों या गैर विकलांग, किशोरावस्था दोनों में ही आती है और उससे जुड़े शारीरिक व भावनात्मक बदलाव और समस्याएँ भी। इसी तरह विकलांग हों या गैर विकलांग अपने शरीर को समझने, अपने आप को साफ़ रखने, संक्रमण और अनचाहे गर्भ के परिणामों, और खुद की यौनिकता पर अधिकार, इनपर जानकारी की ज़रूरत सभी को होती है। ज़रूरी है कि, सभी मामलों में यह जानकारी उनकी परिस्थितियों, समझ के स्तर और विशेष विकलांगता के हिसाब से होनी चाहिए।

इस वर्किंग पेपर में न सिर्फ़ इनके बारे में बात की गई है बल्कि अन्य महत्वपूर्ण आयामों को भी शामिल किया गया है। जैसे कि मीडिया में यौनिकता और विकलांगता का क्या परिदृश्य है, शरीर की छवि (बॉडी इमेज) और आत्म-मूल्य (सेल्फ वर्थ), रिश्ते, शादी, जेंडर, यौनिकता शिक्षा, यौन गतिविधियाँ/प्रथाएँ, दुर्व्यवहार और एचआईवी एवं एड्स को भी विकलांगता के साथ रह रहे लोगों के संदर्भ में देखा गया है। प्रजनन स्वास्थ्य और अधिकारों को भी विकलांगता के साथ रह रहे लोगों के नज़रिए से देखा गया है। इसमें माहवारी, गर्भनिरोधक, गर्भाधान, गर्भसमापन, नसबंदी और गोद लेने के मुद्दों पर जानकारी दी गई है। आमतौर पर तो सभी इन विषयों के बारे में कुछ जानकारी रखते ही हैं लेकिन विकलांगता के साथ रह रहे व्यक्ति के लिए इन बातों के क्या मायने हैं, वे इनसे कैसे प्रभावित होते हैं, यह जानना समझना भी ज़रूरी है क्योंकि उन्हें भी अपनी यौनिकता अनुभव करने का अधिकार है।

कई चुनौतियों के बावजूद कुछ सकारात्मक कथानक हैं जो यौनिकता और विकलांगता पर काम को आगे बढ़ाने के लिए कुछ संभावनाएँ दिखाते हैं। पेपर का निष्कर्ष यह कहता है कि यह तो साफ़ है कि यौनिकता और विकलांगता के बीच संबंध को अभी भी अक्सर नहीं पहचाना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि समाज में गलतफ़हमियाँ व्याप्त हैं जिनके चलते बड़े पैमाने पर मानव अधिकारों का उल्लघंन होता है। यौनिकता और विकलांगता के बीच संबंध को देखने के लिए शोध और अध्ययनों में निवेश करने की ज़रूरत है। साथ ही पैरवी और कार्यक्रमों के लिए साक्ष्य बनाने और मज़बूत करने की ज़रूरत भी है। 

भारत के संदर्भ में स्कूलों में यौनिकता शिक्षा एक बहुत बड़ी बाधा है और विकलांगता के साथ रह रहे बच्चों के लिए और भी बड़ी अड़चन है। जहाँ बात की भी जाती है यह केवल माहवारी और यौनिक दुर्व्यवहार के संदर्भ में की जाती है। सुरक्षित सेक्स, गर्भनिरोधक और अन्य यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य सरोकारों पर जानकारी को अक्सर विकलांगता के साथ रह रहे लोगों के लिए बेकार समझा जाता है। विकलांगता के साथ रह रहे लोगों को यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य अधिकारों पर प्रशिक्षित करना एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें निवेश और संसाधनों की ज़रूरत है ताकि वे इन विषयों पर स्वयं पैरोकार, प्रशिक्षक और शोधकर्ता बन सकें। विकलांगता के बारे में समाज का नज़रिया विकलांगता के साथ रह रहे लोगों की यौनिकता को प्रभावित करता है। समय आ गया है जब हमें समय के साथ नज़रिए में बदलाव लाना चाहिए।

और पढ़ें : अंग्रेजी भाषा में क्यों सिमटी हैं ‘यौनिकता’?


यह लेख इससे पहले तारशी में प्रकाशित किया जा चुका है, जिसे सुनीता भदौरिया ने लिखा है।

तस्वीर साभार : sexualityanddisability.org

This post was originally published in In Plainspeak, TARSHI's online magazine on sexuality in the Global South. TARSHI supports and enables people's control and agency over their sexual and reproductive health and well-being through information dissemination, knowledge and perspective building within a human rights framework.

Follow FII channels on Youtube and Telegram for latest updates.

नारीवादी मीडिया को ज़रूरत है नारीवादी साथियों की

हमारा प्रीमियम कॉन्टेंट और ख़ास ऑफर्स पाएं और हमारा साथ दें ताकि हम एक स्वतंत्र संस्थान के तौर पर अपना काम जारी रख सकें।

फेमिनिज़म इन इंडिया के सदस्य बनें

अपना प्लान चुनें

Leave a Reply