यूटीआई: महिलाओं को होनेवाली एक आम बीमारी, जिस पर चर्चा है ज़रूरी
यूटीआई: महिलाओं को होनेवाली एक आम बीमारी, जिस पर चर्चा है ज़रूरी
FII Hindi is now on Telegram

क्या आपको कभी पेशाब में जलन और दर्द का अनुभव होता है या फिर आप पेशाब को ज्यादा देर तक रोक नहीं पाते है, या फिर थोड़ी-सी भी पेशाब आने के कारण आप बस बाथरूम में ही बैठना चाहते हैं। अगर आप इन सभी लक्षणों से होकर गुजर रहे हैं तो हो सकता है आप यूटीआई से संक्रमित हो। यूटीआई यानी यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन जिसे मूत्र मार्ग संक्रमण के नाम से जाना जाता है। यह महिलाओं में होने वाली सामान्य बीमारियों में से एक है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक, 50 प्रतिशत महिलाओं यानी प्रत्येक पांच में से एक महिला को अपने जीवन में एक बार यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होता ही है। फिर भी काफी महिलाएं इस बीमारी के बारे में जानती ही नहीं हैं। क्या आप जानते हैं कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यूटीआई एक ज्यादा सामान्य बीमारी है। जिसके कारणों में पुरुषों की तुलना में महिलाओं का मूत्र मार्ग का छोटा होना और गुदा और मूत्र मार्ग के बीच में कम दूरी का होना भी शामिल है। यह बीमारी खतरनाक तो नहीं है, लेकिन अगर समय पर ध्यान ना दिया जाए तो यह किडनी को प्रभावित कर सकती है।

यूटीआई के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं: 

1- पेशाब के दौरान तेज जलन और दर्द का अनुभव होना।

2- बार- बार पेशाब का आना, पेशाब करने की तीव्र इच्छा और पेशाब को ज्यादा देर ना रोक पाना।

3- पेट के निचले हिस्से और कमर में दर्द का होना।

Become an FII Member

4- बुखार आना, जी मिचलाना, उल्टी और ठंड लगना।

5- कभी- कभी पेशाब का रंग लाल या पिंक हो सकता है और कभी पेशाब में खून भी होता है, जिसे हेमाट्यूरिया (रक्तमेह) के नाम से जाना जाता है।

और पढ़ें : एंडोमेट्रियोसिस : लाखों महिलाओं को होने वाली एक गंभीर और दर्दनाक बीमारी

यूटीआई के कारण

  • महिलाओं में यूटीआई होने का कारण सबसे सामान्य और मुख्य कारण यौन संबंध है। सेक्स के दौरान बैक्टेरिया का यूरेथरा के ज़रिये होते हुए ब्लैडर तक पहुंच सकते हैं।
  • मूत्रमार्ग और गुदा के बीच कम दूरी होने के कारण, कभी- कभी आंत से निकलकर बैक्टीरिया गुदा से मूत्रमार्ग में पहुंच जाता है। इसके बाद यह बैक्टीरिया मूत्रमार्ग से ब्लैडर और फिर किडनी तक पहुंच जाता है।
  • इसका एक कारण कम मात्रा में पानी पीना भी है।
  • जिन महिलाओं के गुर्दे में पथरी होती है, उन महिलाओं को यूटीआई होने का ज्यादा खतरा रहता है।
  • हाई ब्लड शुगर का होना भी इसकी एक वजह है।
  • अगर किसी को न्यूरोलॉजिकल संबंधी समस्याएं है तो उनमें भी यूटीआई होने के ज्यादा खतरा रहता है।
  • अगर हाल ही में किसी की यूरीनरी सर्जरी होती है तो उन्हें भी यूटीआई होने के ज्यादा खतरा रहता है।

और पढ़ें : योनि स्त्राव : योनि से निकलने वाले सफेद पदार्थ पर क्यों चर्चा है ज़रूरी

यूटीआई से कैसे बचें बचाव 

  • यूटीआई से बचने का सबसे साधारण तरीका है कि ज्यादा से ज्यादा पानी और पेय पदार्थ पीएं। जिससे जल्दी – जल्दी पेशाब आने से बैक्टीरिया पेशाब के जरिये बाहर निकल जाएं।
  • ज्यादा देर तक पेशाब को रोकने की कोशिश ना करें।
  • अपने गुप्तागों को पीछे से आगे की ओर की जगह आगे से पीछे की ओर अच्छे से साफ करें। यह मूत्रमार्ग को गुदा (ऐनल) से आने वाली गंदगी से बचाता है। 
  • यौन संबंध बनाने से पहले और उसके बाद अपने निजी अंगों की सफाई करना न भूलें।
  • सेक्स से पहले और उसके बाद पेशाब करना ना भूलें।
  • सेक्स के दौरान गर्भनिरोधक जैसे कॉन्डम का उपयोग करें।
  • संभव हो तो अनलूब्रीकेंट कंडोम का उपयोग ना करें।
  • निचले अंगों की सफाई किसी भी खुशबूदार या किसी भी प्रकार के स्प्रे से ना करें।
  • सूती कपड़े के अंडरगारमेंट पहने और कसे हुए कपड़े पहनने से बचें।
  • अगर आपका ब्लड शुगर हाई रहता है तो अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर लें। 

और पढ़ें : मेंस्ट्रुअल कप से जुड़ी 10 गलत धारणाएं जिन्हें तोड़ना ज़रूरी है

यूटीआई से बचाव के लिए क्या ना करें 

  • यूटीआई का इलाज घर में या खुद से करने की कोशिश ना करें।
  • गूगल पर सर्च करने से बचें।
  • अगर आप यूटीआई से ग्रसित हैं तो एंटीबायोटिक का पूरा कोर्स लें।
  • यूटीआई का पूरी तरीके से इलाज करवाएं, थोड़ी- सी भी लापरवाही के कारण इससे किडनी को खासा नुकसान पहुंच सकता है।
  • यूटीआई में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है, लेकिन अच्छी बात यह है कि अगर समय रहते इसका इलाज करा दिया जाए तो यूटीआई से आसानी से बचा जा सकता है।

और पढ़ें : कोरोना काल में महिलाओं की पहुंच से दूर हुए पीरियड्स प्रॉडक्ट्स


तस्वीर साभार : Cathy Drug 

Kirti is the Digital Editor at Feminism in India (Hindi).  She has done a Hindi Diploma in Journalism from the Indian Institute of Mass Communication, Delhi. She is passionate about movies and music.

Follow FII channels on Youtube and Telegram for latest updates.

नारीवादी मीडिया को ज़रूरत है नारीवादी साथियों की

हमारा प्रीमियम कॉन्टेंट और ख़ास ऑफर्स पाएं और हमारा साथ दें ताकि हम एक स्वतंत्र संस्थान के तौर पर अपना काम जारी रख सकें।

फेमिनिज़म इन इंडिया के सदस्य बनें

अपना प्लान चुनें

Leave a Reply