हिंदी में होगी अब जेंडर और नारीवाद की बात फेमिनिज़म इन इंडिया के साथ
Home Tags यौनिकता

Tag: यौनिकता

ट्रेंडिंग

आईआईटी खड़गपुर की प्रोफेसर सीमा सिंह के बहाने अकादमिक दुनिया में मौजूद जातिवाद पर एक नज़र

आईआईटी खड़गपुर की प्रोफेसर सीमा सिंह के बहाने बात अकादमिक दुनिया में मौजूद जातिवाद...

हैदराबाद विश्वविद्यालय के रोहित विमुला की संस्थागत हत्या ऐसे ही भेदभाव का दुखद परिणाम है। वेमुला ने अपनी चिट्ठी में इस बात का ज़िक्र किया था, उन्होंने लिखा था कि कैसे लोगों को अकादमिक दुनिया में, सड़कों पर, राजनीति में, जीवन और मृत्य में केवल 'आइटम' और 'थिंग' यानी सामान की तरह देखा जाता है, उन्हें सिर्फ गिनती के लिए रखा जाता है।
इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

इन 15 महिलाओं ने भारतीय संविधान बनाने में दिया था अपना योगदान

2
संविधान सभा में हम उन प्रमुख पंद्रह महिला सदस्यों का योगदान आसानी से भुला चुके है या यों कहें कि हमने कभी इसे याद करने या तलाशने की जहमत नहीं की| तो आइये जानते है उन पन्द्रह भारतीय महिलाओं के बारे में जिन्होंने संविधान निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दिया है|  
स्लीपिंग पार्ट्नर : सेक्स और हिंसा के रंग उकेरती दमदार औरत की कहानी|नारीवादी चश्मा

शादी के फ़िल्टर से सेक्स, हिंसा के रंग और स्लीपिंग पार्टनर की चुनौती| नारीवादी...

जैसे ही बीना को रविश नाम का स्लीपिंग पार्टनर मिला वो काफ़ी बेहतर महसूस करने लगी। उसे ख़ुद में आत्मविश्वास महसूस होने लगा।

आपके पसंदीदा लेख

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

पैड खरीदने में माँ को आज भी शर्म आती है

मासिकधर्म और सैनिटरी पैड पर हमारे घरों में चर्चा करने की बेहद ज़रूरत है और जिसकी शुरुआत हम महिलाओं को ही करनी होगी।
लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

लैंगिक समानता : क्यों हमारे समाज के लिए बड़ी चुनौती है?

6
गाँव हो या शहर व्यवहार से लेकर काम तक लैंगिक समानता हमारे समाज में मौजूद है, जो हमारे देश के लिए एजेंडा 2030 को पूरा करने में बड़ी चुनौती है|
उफ्फ! क्या है ये नारीवादी सिद्धांत? आओ जाने!

उफ्फ! क्या है ये ‘नारीवादी सिद्धांत?’ आओ जाने!

2
नारीवाद के बारे में सभी ने सुना होगा। मगर यह है क्या? इसके दर्शन और सिद्धांत के बारे में ज्यादातर लोगों को नहीं मालूम। इसे पूरी तरह जाने और समझे बिना नारीवाद पर कोई भी बहस या विमर्श बेमानी है। नव उदारवाद के बाद भारतीय समाज में महिलाओं के प्रति आए बदलाव के बाद इन सिद्धांतों को जानना अब और भी जरूरी हो गया है।

फॉलो करे

7,007FansLike
2,948FollowersFollow
1,825FollowersFollow