FII is now on Telegram

4 जनवरी 2020 को पाकिस्तान के लाहौर उच्च न्यायालय ने रेप और यौन प्रताड़ना के मामलों में वहां किए जाने वाले टू फ़िंगर्स टेस्ट को अवैध और असंवैधानिक क़रार दिया है। जस्टिस आएशा ए. मालिक ने इसे पाकिस्तान के संविधान के अनुच्छेद 9 और अनुच्छेद 14 का हनन बताया है। लाहौर कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी लिखा कि टू फिंगर टेस्ट यौन हिंसा सर्वाइवर्स के प्रति एक तरह का लैंगिक भेदभाव है। जस्टिस आएशा ने चिकित्सा विधिक यानी मेडिको लीगल क्षेत्र में यौन उत्पीड़न के सर्वाइवर्स के प्रति व्यवहार में संवेदनशीलता रखना ज़रूरी बताया।

पाकिस्तान में 2020 मार्च में महिला विरोधी इस क़ानून के ख़िलाफ़ याचिका दाख़िल की गई थी। उन्होंने यह भी कहा कि वर्जिनिटी टेस्ट अवैज्ञानिक है लेकिन फिर भी इसे मेडिकल प्रोटोकॉल के नाम पर किया जाता है। इससे सर्वाइवर पर शक किया जाता है, यौन हिंसा के आरोपी पर ध्यान देने की जगह। लाहौर हाईकोर्ट ने अपने फैसले में भारत के ईलाहाबाद हाईकोर्ट और गुजरात हाईकोर्ट के फैसलों का भी हवाला दिया। साल 2018 में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार संगठन और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि वर्जिनिटी टेस्टिंग एक बेहद ही अमानवीय, पीड़ादायक और आघातपूर्ण प्रक्रिया है और इसे जल्द से जल्द बंद होना चाहिए।

और पढ़ें : महाराष्ट्र का कंजरभाट समुदाय,जहां पंचायत करती है महिलाओं का वर्जिनिटी टेस्ट

क्या होता है टू फ़िंगर्स टेस्ट ?

टू फ़िंगर्स टेस्ट में महिला के योनि की प्रत्यक्ष शारीरिक जांच होती है। मकसद होता है योनि के मांशपेशियों के आकार, इलास्टिसिटी का पता लगाना। साथ ही हाइमन यानी योनि की झिल्ली की स्थिति का पता लगाना। डॉक्टर की दो उंगलियों महिला की योनि के अंदर प्रवेश करती हैं। महिला के यौन रूप से सक्रिय होने, उसके साथ हुई हिंसा के बारे में जानने का पैमाना उन दो उंगलियां का आसानी या मुश्किल से प्रवेश पाना होता है। पीड़िता के शरीर के माध्यम से यौन हिंसा के बारे में जानकारी लेने के किये ये टेस्ट वैज्ञानिक रूप से भी बेतुका है।

Become an FII Member

टू फिंगर्स टेस्ट की प्रक्रिया का हिस्सा बनना एक सर्वाइवर के लिए शारीरिक और मानसिक यातना दोबारा एक अलग कारण से जीने की तरह है।

हाइमन टेस्ट का कोई औचित्य नहीं है। योनि की इलास्टिसिटी और यौन सक्रियता के बीच संबंध देखना मात्र एक रूढ़िवादी सोच है। साथ ही उत्पीड़न से पहले यौन रूप से सक्रियता उत्पीड़न के बारे में केस में कोई मदद नहीं करती। बल्कि महिला के ऊपर सामाजिक और शारीरिक तथाकथित नैतिक दबाव थोपती है। महिला शरीर पर उनके अधिकारों के विरोधी किसी भी समाज में अविवाहित लड़कियों या महिलाओं की यौन सक्रियता उनके चरित्र पर प्रश्वाचक चिह्न लगाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हमारा समाज भी ऐसी ही सोच रखता है। यह टेस्ट भारत और बांग्लादेश समेत दुनिया के कई देशों में पहले ही प्रतिबंधित कर दिया गया था। पाकिस्तान में यह प्रतिबंध अब जाकर लागू हुआ।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक टू फ़िंगर्स टेस्ट महिलाओं के प्रति बेहद अनैतिक है। इसे मानवाधिकारों के उल्लंघन के तौर पर देखा जा सकता है। इस टेस्ट की प्रक्रिया का हिस्सा बनना पीड़ित महिला के लिए शारीरिक और मानसिक यातना दोबारा एक अलग कारण से जीने की तरह है। इस प्रक्रिया में शामिल पुलिस, मेडिकल, क़ानूनी विभाग के लोगों का रवैया किसी भी बिंदु पर पीड़िता के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। ऐसा आसानी से होने का ख़तरा सबसे अधिक रहता है। चूंकि महिलाओं के शरीर को उनकी पवित्रता से जोड़ना एक सामाजिक सोच है, तमाम औपरकारिक ढांचों में कार्यरत लोगों का इससे बाहर होना कई बार ज़मीनी स्तर पर देखने नहीं मिलता। 

और पढ़ें : अग्नि परीक्षा के बहाने इसके मूल मुद्दे ‘वर्जिनिटी’ की बात !


तस्वीर : सुश्रीता भट्टाचार्जी फेमिनिज़म इन इंडिया के लिए

मेरा नाम ऐश्वर्य अमृत विजय राज है, मिरांडा हाउस से 2021 में दर्शनशास्त्र से स्नातक है। जन्म और शुरुआती पढ़ाई लिखाई बिहार में हुई। इसलिए बिहार के कस्बों और गांव का अनुभव रहा है। दिल्ली आने के बाद समझ आया कि महानगर से मेरे लोग मीलों नहीं बल्कि सालों पीछे हैं। नारीवाद को ख़ासकर भारतीय संदर्भ में उसकी बारीकियों के साथ थ्योरी में और ज़मीनी स्तर पर समझना, जाति और वर्ग के दख़ल के साथ समझना व्यक्तिगत रुचि और संघर्ष दोनों ही है। मुझे आसपास की घटनाएं डॉक्यूमेंट करना पसंद है, कविताओं या विज़ुअल के माध्यम से। लेकिन कभी कभी/हमेशा लगता है "I am too tired to exist".

Follow FII channels on Youtube and Telegram for latest updates.

नारीवादी मीडिया को ज़रूरत है नारीवादी साथियों की

हमारा प्रीमियम कॉन्टेंट और ख़ास ऑफर्स पाएं और हमारा साथ दें ताकि हम एक स्वतंत्र संस्थान के तौर पर अपना काम जारी रख सकें।

फेमिनिज़म इन इंडिया के सदस्य बनें

अपना प्लान चुनें

Leave a Reply