FII Hindi is now on Telegram

सरला देवी वह महिला हैं, जिन्हें भारत में पहले महिला संगठन के संस्थापक के रूप में जाना जाता है। उन्होंने इलाहाबाद में ‘भारत स्त्री महामंडल’ नामक महिला संगठन खोला था। सरला देवी एक लेखिका, गायिका होने के साथ-साथ एक राजनीतिक कार्यकर्ता और नेता भी थीं। 9 सितंबर 1872 को कलकत्ता में एक प्रसिद्ध बंगाली परिवार में सरला देवी का जन्म हुआ था। उनके पिता जानकीनाथ घोषाल बंगाल कांग्रेस के सचिव थे। सरला देवी के पिता जानकीनाथ घोषाल और मां स्वर्णकुमारी देवी दोनों ही सफल बंगाली लेखक थे। उनकी मां बंगाली साहित्य की एक सफल महिला उपन्यासकार थीं।

सरला देवी अपनी मां के माध्यम से टैगोर परिवार से संबंधित थीं क्योंकि वह देवेंद्रनाथ टैगोर की पोती थीं। सरला देवी एक प्रख्यात नारीवादी थीं और उन्होंने देश में महिला शिक्षा के महत्व को मान्यता दिलाने की दिशा में कड़ी मेहनत की। सरला देवी ने कलकत्ता विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य में बीए किया था। वह अपने समय की कुछ महिला स्नातकों में से थीं क्योंकि उस समय भारत में महिलाओं के लिए शिक्षा प्राप्त करना काफी मुश्किल था। उन्होंने अपनी पढ़ाई के लिए पद्मावती गोल्ड मेडल भी प्राप्त किया था।

और पढ़ें : अरुणा आसफ़ अली : स्वाधीनता संग्राम की ग्रांड ओल्ड लेडी| #IndianWomenInHistory

स्वतंत्रता संग्राम में भागीदारी

सरला देवी फ़ारसी, फ्रेंच और संस्कृत की विशेषज्ञ थीं। शुरुआत से ही उनकी साहित्य, संगीत और कला में काफी रुचि थीं। सरला देवी ने स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में ब्रिटिश विरोधी आंदोलन की नेता के रूप में भी सक्रिय रूप से भाग लिया। उन्होंने संगीत में अपनी रुचि के माध्यम से राजनीति में प्रवेश किया। उन्होंने लोगों को ब्रिटिश राज के खिलाफ खड़े होने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए गीत लिखना और गाना शुरू किया।

Become an FII Member
सरला देवी

साल 1905 में, 33 साल की उम्र में, सरला देवी ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य, वकील और पत्रकार पंडित रामभुज दत्त चौधरी से शादी कर ली। अपनी शादी के बाद वह पंजाब चली गईं। वहां उन्होंने ‘हिंदुस्तान’ नाम के एक उर्दू साप्ताहिक अखबार के संपादन में अपने पति की मदद की और समय के साथ, अखबार का एक अंग्रेज़ी संस्करण भी शुरू किया।

और पढ़ें : मातंगिनी हाजरा : महिलाओं को स्वतंत्रता संग्राम से जोड़नेवाली सेनानी| #IndianWomenInHistory

भारत स्त्री महामंडल की शुरुआत

इसी समय के दौरान, सरला देवी ने भारत में पहले महिला संगठन की स्थापना की, जिसे इलाहाबाद में भारत स्त्री महामंडल के नाम से जाना जाता है। संगठन का मुख्य लक्ष्य देश में महिला शिक्षा को बढ़ावा देना और सुधारना था, जिसे उस समय अच्छी तरह से मान्यता नहीं मिली थी। संगठन भारत में हर जाति, वर्ग और पार्टी की महिलाओं को एक साथ लाकर महिलाओं की उन्नति में विश्वास करता था। इस संगठन की लाहौर, हजारीबाग, दिल्ली, करांची, कानपुर, कलकत्ता, हैदराबाद, अमृतसर, और मिदनापुर सहित देश भर के कई शहरों में विभिन्न शाखाएं थीं। रॉलेट एक्ट पारित होने के बाद, कई सरकारी नीतियों के खिलाफ देशव्यापी तनाव पैदा हो गया, जिसके परिणामस्वरूप जलियांवाला बाग नरसंहार हुआ। सरला देवी और उनके पति रामभुज दोनों ने अपने अखबार में सरकार के रुख की आलोचना की जिसके परिणामस्वरूप रामभुज को गिरफ्तार कर लिया गया। उस वक्त सरला देवी की गिरफ्तारी भी होनी थी लेकिन एक महिला की गिरफ्तारी राजनीतिक दिक्कतें बढ़ा सकती थी इसलिए उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया।

सरला देवी फ़ारसी, फ्रेंच और संस्कृत की विशेषज्ञ थीं। शुरुआत से ही उनकी साहित्य, संगीत और कला में काफी रुचि थीं। सरला देवी ने स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में ब्रिटिश विरोधी आंदोलन की नेता के रूप में भी सक्रिय रूप से भाग लिया।

साल 1901 में, जब सरला देवी 29 वर्ष की थीं, तब महात्मा गांधी ने उन्हें पहली बार देखा था। वह एक ऑर्केस्ट्रा का संचालन कर रही थी। जब महात्मा गांधी लाहौर गए और सरला देवी के वहां वह एक मेहमान की तरह रहे तब उन दोंनो की बीच दोस्ती हुई। सरला देवी ने अपने पूरे राजनीतिक जीवन में गांधी का समर्थन किया, जिससे अक्सर उनके पति के साथ राजनीतिक मतभेद पैदा हो जाते थे। आगे चलकर सरला देवी के इकलौते बेटे दीपक की शादी महात्मा गांधी की पोती राधा से हुई थी।

और पढ़ें : तारा रानी श्रीवास्तव : स्वतंत्रता की लड़ाई में शामिल गुमनाम सेनानी| #IndianWomenInHistory

पत्रकारिता और सामाजिक कार्य

सरला देवी ने अपने चाचा रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा स्थापित प्रतिष्ठित पत्रिका ‘भारती’ सहित विभिन्न पत्रिकाओं का संपादन भी किया। पत्रिका में देश भर के विभिन्न लेखकों के लेख और योगदान शामिल थे। सरला देवी ने स्वयं अपने विचारों और विचारों को व्यक्त करते हुए पत्रिका के लिए कई गीत और लेख लिखे। सरला देवी को युवाओं को देश की सेवा करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए और विभिन्न कार्यों को शुरू करने के लिए भी जाना जाता था। उन्होंने दुर्गा पूजा के दूसरे दिन नायकों के उत्सव, बिरष्टमी उत्सव की स्थापना की। उन्होंने स्वदेशी आंदोलन में भी भाग लिया और महिलाओं को स्वदेशी उत्पादों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया। उनके कुछ सबसे महत्वपूर्ण प्रकाशनों में ‘नबाबरशेर स्वप्न, बनलिर पितृधन और जिबनेर झरपता’ शामिल हैं। उन्होंने सतगन नामक गीतों से भरी एक पुस्तक भी लिखी, जिसका शाब्दिक अर्थ है, ‘एक सौ गीत।’ सरला देवी की मौत भारत की आज़ादी के दो साल पहले, 18 अगस्त 1945 को 72 वर्ष की आयु में हुई थी।

और पढ़ें : लेख को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए क्लिक करें


Kirti has completed Hindi Journalism from IIMC, Delhi. Looking for space that she can call home. She loves to bake cake and pizza. Want to make her own library. Making bookmarks, listening to Ali Sethi, and exploring cinema is the only hope to survive in this world.

Follow FII channels on Youtube and Telegram for latest updates.

नारीवादी मीडिया को ज़रूरत है नारीवादी साथियों की

हमारा प्रीमियम कॉन्टेंट और ख़ास ऑफर्स पाएं और हमारा साथ दें ताकि हम एक स्वतंत्र संस्थान के तौर पर अपना काम जारी रख सकें।

फेमिनिज़म इन इंडिया के सदस्य बनें

अपना प्लान चुनें

Leave a Reply